रामनगर में कोसी बैराज के आसपास बाघ की दस्तक से दहशत बढ़ी, मनोरंजन पार्क शाम छह बजे से बंद

कोसी बैराज के आसपास बाघ की दस्तक से वन विभाग जनसुरक्षा को लेकर चिंतित है। पिछले कुछ समय से बाघ से लोगों को खतरा बना हुआ है। वन विभाग ने मनोरंजन पार्क को छह बजे के बाद बंद करा दिया है।

रामनगर| रामनगर में मानव वन्यजीव संघर्ष की घटानाएं बढ़ गई हैं। कोसी बैराज के आसपास बाघ की दस्तक से वन विभाग जनसुरक्षा को लेकर चिंतित है। पिछले कुछ समय से बाघ से लोगों को खतरा बना हुआ है। खतरे को भांपते हुए वन विभाग ने मनोरंजन पार्क को छह बजे के बाद बंद करा दिया है। सुबह और शामक को लोगों को वहां जाने से रोका जा रहा है।

कोसी बैराज के समीप पिछले एक महीने से बाघ मंडरा रहा है। बाघ दिन में कभी वन चौकी पर खड़ा दिख रहा है तो कभी सड़क पर आकर खड़ा हो जा रहा है। बीते दिनों उसकी तस्वीर बैराज में पुलिस के लगाए गए कैमरे में भी कैद हुई थी। बाघ की झलक पाने का रिस्क भी लोग उठा रहे हैं। कई लोग बैराज के आसपास रात में पहुंच रहे हैं। बैराज से ही टेड़ा गांव के अधिकांश लोग नगर से ड्यूटी करके जंगल के रास्ते अपने घर जाते हैं। ऐसे में बाघ के हमले का खतरा बना हुआ है।

इसे देखते हुए रामनगर वन प्रभाग के कोसी रेंजर के स्टाफ ने बैराज में सतर्कता के लिए अनाउंस कराना शुरू कर दिया है। सायरन वाहन भी खड़ा किया गया है। लोगों को खतरे से आगाह करते हुए बड़े होर्डिंग्स भी बैराज पर लगाए गए हैं। इसके अलावा पोस्टर भी चस्पा किए जा रहे हैं। बैराज पर रात आठ बजे तक चलने वाले जिम व मनोरंजन पार्क को भी वन विभाग ने शाम छह बजे बंद करने के लिए सिंचाई विभाग के अधिकारियों से कह दिया है।

रेंजर ललित जोशी ने बताया कि बैराज के समीप सतर्कता बरती जा रही है। सुबह व शाम को घूमने वाले लोगों से बैराज क्षेत्र में जाने से मना किया जा रहा है। शाम छह बजे के बाद और सुबह अंधेरे में वनकर्मी लोगों को बैराज से लौटा रहे हैं। सुरक्षा के मद्देनजर ग्रामीणों के साथ भी बैठक की गई है। इस दौरान उनसे किसी भी तरह की लापरवाही न बरतने का आह्रान किया गया है।