स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री बोले- 18-19 कंपनियां कोविड टीका बनाने में जुटीं, मार्च से लगेगी 50 साल से ज्‍यादा उम्र वालों को वैक्‍सीन

कोरोना के खिलाफ जारी चौतरफा लड़ाई अब रंग लाती नजर आ रही है। केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने सोमवार को बताया कि बीते सात दिनों में देश के 188 जिलों में कोरोना का एक भी नया मामला सामने नहीं आया है।

नई दिल्‍ली। कोरोना के खिलाफ जारी चौतरफा लड़ाई अब रंग लाती नजर आ रही है। केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने सोमवार को बताया कि बीते सात दिनों में देश के 188 जिलों में कोरोना का एक भी नया मामला सामने नहीं आया है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री (Harsh Vardhan) ने यह भी बताया कि 18-19 कंपनियां कोविड वैक्‍सीन बना रही हैं। ये टीके परीक्षण के विभिन्न चरणों में हैं। सरकार मार्च में 50 साल से ज्‍यादा उम्र के लोगों को कोविड वैक्‍सीन लगाने की स्थिति में होगी। उन्‍होंने यह भी कहा कि यह बेहद महत्वपूर्ण है कि लोग कोविड गाइडलाइन का पालन करते रहें। इसे मैंने सोशल वैक्‍सीन नाम दिया है, जो कोरोना के खिलाफ असल टीका है।

80-85 लाख कर्मियों को दी गई वैक्‍सीन 

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन (Harsh Vardhan) ने कहा कि आज देश में दो वैक्सीन उपलब्ध हो गई है। 80-85 लाख स्वास्थ्यकर्मी और फ्रंट लाइन वर्कर्स को वैक्सीन दी जा चुकी है। मौजूदा वक्‍त में भारत 20-25 देशों को वैक्सीन देने की स्थिति में आ गया है। मार्च के महीने में हम 50 साल से ज्यादा उम्र के लोगों को वैक्सीन देंगे। केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री (Harsh Vardhan) ने यह भी बताया कि मौजूदा वक्‍त में देश में 18-20 वैक्सीन पर अलग-अलग स्तरों पर काम चल रहा है। इनमें से कुछ वैक्सीन अगले कुछ महीनों में आ सकती हैं। 

80-85 फीसद फ्रंटलाइन कर्मचारियों का टीकाकरण हुआ 

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन (Harsh Vardhan) ने बताया कि 80-85 फीसद फ्रंटलाइन कर्मचारियों को टीका लगाया जा चुका है। भारत से 20 से 25 देशों को कोविड वैक्सीन दी जानी है। कम से कम 18-20 टीके प्रीक्लीनिकल, क्लिनिकल और एडवांस स्टेज में हैं। आने वाले महीनों में इनके आने की संभावना है। मेरा मानना है यदि ‘हेल्थ फॉर ऑल’ का सपना दुनिया में कभी पूरा होगा तो इसका मॉडल भारत में विकसित होगा। हमारा समग्र दृष्टिकोण, प्राचीन चिकित्सा ज्ञान, अन्य स्वास्थ्य सुविधाएं और प्रणालियां सामूहिक रूप से दुनिया के लिए एक आदर्श प्रस्‍तुत करेंगी।

दुनिया की सबसे कम मृत्यु दर भारत में

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन ने यह भी बताया कि देश में अब तक 1,09,16,589 लोग कोविड से ग्रस्त हुए हैं। इनमें से 1,06,21,220 लोगों ने महामारी को शिकस्‍त दी है। मौजूदा वक्‍त में देश में कोरोना संक्रमण के खिलाफ 97.29 फीसद की रिकवरी रेट है। दुनिया की सबसे कम मृत्यु दर 1.43 भारत में ही है। पिछले सात दिनों में देश के 188 जिलों में कोरोना का एक भी नया केस सामने नहीं आया है। कोरोना आपदा को हमने अवसर में बदला है। इसमें दौरान देश की स्वास्थ्य क्षमता काफी मजबूत हुई है। देश में वायरस की जांच के लिए एक लैब थी, जिसे 2,500 लैब तक ले जाया गया है।

28 दिनों में देश के 76 जिलों में एक भी केस नहीं 

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि बीते 28 दिनों में देश के 76 जिलों में कोविड का एक भी मामला नहीं आया है। 34 जिलों में पिछले 14 दिन के अंदर कोरोना का कोई मामला नहीं आया। पिछले 21 दिन में 21 जिलों में कोरोना का कोई मामला नहीं आया है। मौजूदा वक्‍त में वैज्ञानिकों के बीच कोरोना के जीनोम अनुक्रमण की चर्चा हो रही है। इसे हमने पिछले साल मई-जून में ही भारतीय प्रयोगशालाओं में किया है। भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद के अनुसार देश में 14 फरवरी तक 20,67,16,634 नमूनों की कोविड जांच की गई है।

क्या आपने यह देखा