नैनीताल में पर्यटक उठा सकेंगे रोपवे से सैर का लुत्फ, ब्रिडकुल ने दिया सेफ्टी सर्टिफिकेट, ट्रायल भी पूरा

नैनीताल में करीब एक साल से बंद पड़े रोपवे की सैर के लिए पर्यटकों को अब और इंतजार नहीं करना होगा। कुमाऊं मंडल विकास निगम ने इसके संचालन को लेकर सभी औपचारिकता पूरी कर ली है। अगले सप्ताह तक इसका संचालन शुरू कर दिया जाएगा।

नैनीताल| नैनीताल में करीब एक साल से बंद पड़े रोपवे की सैर के लिए पर्यटकों को अब और इंतजार नहीं करना होगा। कुमाऊं मंडल विकास निगम ने इसके संचालन को लेकर सभी औपचारिकता पूरी कर ली है। अगले सप्ताह तक इसका संचालन शुरू कर दिया जाएगा। बता दें कि तकनीकी खराबी आने के चलते बीते वर्ष फरवरी में सवारियों से भरी रोपवे ट्राली बीच में ही फंस गई थी। जिस पर निगम कर्मियों ने रेस्क्यू कर सवारियों को रस्सी के सहारे नीचे उतारा था। 

मार्च में निगम ने इसकी मरम्मत कार्य शुरू करवाया, लेकिन लाकडाउन होने के चलते बाहर से  जरूरी उपकरण नहीं मंगाए जा सके। जिस कारण इसका कार्य और टल गया। लाकडाउन खुलने के बाद एक बार फिर इसका कार्य दोबारा शुरू करवाया गया। मगर संचालन से पहले ट्रायल करने और ब्रिडकुल की टीम द्वारा तकनीकी सर्वे पूरा नहीं होने के कारण निगम को और इंतजार करना पड़ा। 

निगम एमडी रोहित मीणा ने बताया कि रोपवे के संचालन को लेकर किया गया ट्रायल सफल रहा है। साथ ही ब्रिडकुल द्वारा सर्वे कर सेफ्टी सर्टिफिकेट भी प्राप्त हो गया है। संचालन को लेकर जनरेटर संबंधी समस्या आ रही थी वह औपचारिकता भी पूरी कर ली गयी है। अगले सप्ताह तक इसका संचालन शुरू कर दिया जाएगा।

अब तक रोपवे मैनुअल मोड पर संचालित किया जाता था। मगर करीब 1.32 करोड़ की लागत से हुए कार्यों के बाद सिस्टम ऑटोमेटिक कर दिया गया है। जिसमें कई सेफ्टी फीचर भी लगाए गए है। रोहित मीणा ने बताया कि पूर्व में केवल शाम छह बजे तक ही इसका संचालन किया जाता था। मगर अब रात को भी इसे संचालित करने की योजना है।

बीते एक वर्ष में रोपवे का संचालन नहीं होने से निगम को करीब चार करोड़ की चपत लग चुकी है। वही बड़ी आबादी वाले क्षेत्र स्नोव्यू के बाशिंदों को आवागमन में बेहद परेशानी झेलनी पड़ी। रोपवे के संचालन से जहा निगम की आय के साधन खुलेंगे। वही लोगों को भी आवागमन के लिए परेशान नहीं होना पड़ेगा। साथ ही करीब एक वर्ष बाद पर्यटक भी इसकी सैर कर झील और शहर की सुंदरता निहार पाएंगे। 

(साभार- नरेश कुमार)