राम मंदिर निर्माण को देवभूमि के धार्मिक स्थलों से एकत्र की गई मिट्टी और जल

राम जन्मभूमि भूमि पूजन और शिलान्यास कार्यक्रम के लिए देवभूमि उत्तराखंड से हर की पैड़ी ब्रह्मकुंड से जल और रेती एकत्रित की गई।

देहरादून।  देश के अन्य हिस्सों की भांति देवभूमि उत्तराखंड से भी चारधाम बदरीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री समेत अन्य मठ-मंदिरों की माटी और गंगा-यमुना जैसी सभी नदियों का पवित्र जल अयोध्या भेजा जाएगा। इसका बीड़ा विश्व हिंदू परिषद ने उठाया है। इसी के तहत श्री राम जन्मभूमि भूमि पूजन और शिलान्यास कार्यक्रम के लिए देवभूमि उत्तराखंड से बदरीनाथ धाम समेत अन्य धार्मिक स्थलों से जल और रेती एकत्रित की गई। हर की पैड़ी ब्रह्मकुंड से एकत्रित जल और रेती को दो अगस्त को श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के सदस्य युगपुरुष महामंडलेश्वर स्वामी परमानंद गिरि जी महाराज अयोध्या लेकर जाएंगे। फिलहाल, गंगाजल और रेती को अखंड परम धाम हरिद्वार में रखा गया है। 

कलश भरने से पहले पूर्ण विधि-विधान के साथ गंगा पूजन किया गया। इस अवसर पर राज्यपाल बेबी रानी मौर्य, महामंडलेश्वर परमानंद गिरी महाराज, बड़े अखाड़े के महंत दामोदरदास, निर्वाणी अखाड़ा के महंत रविंद्रपुरी, चेतन ज्योति आश्रम के स्वामी ऋषिश्वरानंद, विश्व हिंदू परिषद के जिला अध्यक्ष नितिन गौतम, रवि देवानंद केंद्रीय मंत्री विहिप, क्षेत्रीय संगठन मंत्री मनोज वर्मा, प्रांत सह संगठन मंत्री अजय, प्रांत संयोजक अमित वालिया, प्रांत संत संपर्क प्रमुख राकेश बजरंगी, विकास प्रधान, संघ के विभाग प्रचारक शरद, क्षेत्र प्रचार प्रमुख पद्म, दिव्य प्रेम सेवा मिशन के आशीष गौतम, संजय चतुर्वेदी, अखिल भारतीय युवा साधु समाज के रवि देव शास्त्री, महंत दिनेश दास समेत बड़ी संख्या में संत मौजूद रहे। अस्थि विसर्जन कार्यक्रम और हल्की बूंदाबांदी के चलते निर्धारित समय से थोड़ा देरी से कार्यक्रम शुरू हुआ।

वहीं, राम मंदिर के भूमि पूजन के लिए गंगोत्री और यमुनोत्री धाम से विहिप के कार्यकर्ता गंगाजल और मिट्टी को लेकर हरिद्वार के लिए रवाना होंगे। विश्वनाथ मंदिर में उत्तरकाशी से भी भव्य राम मंदिर भूमि पूजन के लिए मिट्टी भेजी जाएगी। इसको लेकर आज विश्वनाथ मंदिर समिति के पदाधिकारी विहिप के कार्यकर्ताओं को मिट्टी सौंपेंगे।

वहीं, बदरीनाथ धाम से पवित्र मृदा और जल राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ, विश्व हिन्दू परिषद के कार्यकर्ताओं को दिया गया। बदरीनाथ धाम में रावल ईश्वर प्रसाद नंबूदरी, धर्माधिकारी भुवन चंद्र उनियाल ने पूजा-अर्चना के बाद माटी और जल अयोध्या के लिए रवाना किया। विश्व हिन्दू परिषद के विभाग अध्यक्ष देवी प्रसाद देवली, आदित्य रावत, सतीश देवली आदि उपस्थित थे।

नई टिहरी के सुरकंडा, चंद्रबदनी, कुंजापुरी, देवप्रयाग संगम, बूढ़ाकेदार और अन्य धार्मिक स्थलों से मिट्टी और स्थानीय नदियों का जल लेकर टिहरी से रामभक्त और भाजपा-विहिप कार्यकर्ता अयोध्या के लिए रवाना हुए हैं। इससे पहले नई टिहरी में भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता विनोद सुयाल ने कहा कि रामभक्त हिंदुओं की सैंकड़ों वर्ष पुरानी मांग अब पूरी होने जा रही है। ऐसे में टिहरी के पौराणिक और देवस्थलों की मिट्टी और स्थानीय नदियों का जल लेकर रामभक्त अयोध्या की तरफ रवाना हो रहे हैं। इस अवसर पर भाजपा जिलाध्यक्ष विनोद रतूड़ी, सुनील थपलियाल, विजय कठैत, सोहन सिंह चौहान, संदीप रावत, राकेश पेटवाल आदि मौजूद रहे।