स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय ने दी कोरोना वैक्‍सीन के आर्डर, कीमत और स्‍टोरेज के तापमान की जानकारी

नई दिल्‍ली। कोरोना वायरस और वैक्‍सीन को लेकर प्रेस कांफ्रेंस में स्वास्थ्य मंत्रालय के सचिव राजेश भूषण ने कहा कि  दुनिया में कोरोना के लेकर अभी भी चिंताजनक स्थिति है। एक दिन 4 लाख नए मामले सामने आए, ब्रिटेन में 68,000 नए केस, ब्रजील में 87,000 और रूस में 29,000 नए सामने आए हैं। भारत में 12,584 नए मामले रिपोर्ट हुए हैं। भारत में फिलहाल 2,16,558 ऐक्टिव केस हैं, पिछली बार जून में इतने कम ऐक्टिव केस थे। भारत में कोरोना के कुल केस 1.04 करोड़ हैं, ऐक्टिव केस 2.16 लाख हैं। 1.51 लाख लोगों की मौत हुई है। प्रति लाख की आबादी में 7,593 नए मामले रिपोर्ट हुए हैं।

प्रति 10 लाख की आबादी में 109 लोगों की मौत हुई है। केवल 2 राज्यों में अभी 50,000 से ज्यादा ऐक्टिव मामले हैं। केरल में 64,547 एक्टिव केस हैं, जबकि महाराष्ट्र में 53,463 एक्टिव मामले हैं। उन्‍होंने कहा कि फिलहाल कोरोना के कुल ऐक्टिव मरीजों का 43.96 फीसदी अस्पतालों या अन्य हेल्थकेयर फसिलिटीज में है, जबकि 56.04 फीसदी होम आइसोलेशन में है। 

वैक्‍सीन को लेकर उन्‍होंने कहा कि सीरम इंस्टीट्यूट और भारत बायोटेक की वैक्सीन को भारत में आपात इस्तेमाल की मंजूरी मिली है। जनवरी में जायडस कैडिला के तीसरे चरण का ट्रायल शुरू होगा, स्पुतनिक V का दूसरे और तीसरे चरण का ट्रायल जारी है। बायोलॉजिकल ई का पहले चरण का ट्रायल चल रहा है। जेनोवा के पहले चरण के ट्रायल को मंजूरी मिली है। दुनिया के दूसरे देशों के अलग-अलग वैक्सीन की कीमत और उसके स्टोरेज के लिए तापमान के जानकारी स्वास्थ्य मंत्रालय ने दी। उन्‍होंने कहा कि सीरम इंस्टीट्यूट से भारत सरकार ने वैक्सीन के 110 लाख डोज का फिलहाल ऑर्डर दिया है। इनकी कीमत 200 रुपये प्रति डोज (टैक्स छोड़कर) है।

भारत बायोटेक से कोवैक्सीन की 55 लाख डोज खरीदने का फैसला किया है, जिनमें से 38.50 लाख डोज की कीमत 295 रुपये प्रति डोज है।  भारत बायोटेक एक विशेष भेंट के रूप में केंद्रीय सरकार को कोवाक्सिन की 16.50 लाख खुराक मुफ्त प्रदान करेगा। 

उन्‍होंने कहा कि फाइजर की वैक्सीन को अनेक देशों में आपातकालीन प्रयोग की अनुमति मिली है, इसका प्रति डोज का दाम 1,400 रुपये से अधिक है। मॉडर्ना की वैक्सीन का एक डोज 2,300-2,700 रुपये में उपलब्ध है। उन्‍होंने कहा कि दो खुराक के टीका के प्रभाव को व‍िकसित होने में 14 दिन लगते हैं। इसलिए कोव‍िड के लिए उचित व्यवहार बनाए रखना अनिवार्य है। 

नीति आयोग के सदस्‍य डॉ. वीके पाल ने कहा कि एक वैक्सीनेशन टीम में 5 सदस्य होंगे, इनमें एक वैक्सीन देने वाला होगा, 4 अन्य मदद करने वाले लोग हैं। टीकाकरण के लिए जनभागीदारी जरूरी है, चुनावों के अनुभवों के इस्तेमाल की जरूरत है। साइंटिफिक या रेग्युलेटरी नॉर्म्स के साथ किसी भी तरह का समझौता नहीं किया जाएगा। उन्‍होंने कहा कि हरियाणा के करनाल, कोलकाता, चेन्‍नई और मुंबई में 4 बड़े स्टोर हैं, जहां वैक्सीन स्टोर की जा रही है। राज्यों में कम से कम एक रीजनल वैक्सीन स्टोर है। यूपी में 9, एमपी में 5 ,गुजरात में 4 केरल में3, जम्मू-कश्मीर में 2, कर्नाटक में और राजस्थान में रीजनन वैक्सीन स्टोर हैं।