कोरोना के बढ़ते मामलों को लेकर अलर्ट मोड में केंद्र, पीएम नरेंद्र मोदी आठ अप्रैल को मुख्यमंत्रियों के साथ करेंगे बातचीत

बीते 24 घंटों में देश में कोरोना संक्रमण के 103764 नए मामले सामने आए हैं 477 लोगों की मौत हुई है और 52825 लोग ठीक हुए हैं। कोरोना के बढ़ते मामलों के कारण पीएम नरेंद्र मोदी आठ अप्रैल को मुख्यमंत्रियों के साथ बातचीत करेंगे।

नई दिल्‍ली। कोरोना के बढ़ते मामलों के कारण केंद्र सरकार अलर्ट मोड में आ गई है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन मंगलवार को एक बैठक की अध्यक्षता करेंगे। इसमें 11 राज्य और केंद्रशासित प्रदेशों के स्वास्थ्य मंत्रियों के साथ बैठक करेंगे। इसके बाद पीएम नरेंद्र मोदी आठ अप्रैल को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से कोरोना के बढ़ते मामलों और टीकाकरण से संबंधित मुद्दों पर मुख्यमंत्रियों के साथ बातचीत करेंगे। ज्ञात हो कि देश में पहली बार एक दिन में एक लाख से ज्यादा नए मामले सामने आए हैं और कुल संक्रमितों का आंकड़ा सवा करोड़ को पार कर गया है। हालांकि, पिछले दो दिनों की तुलना में मरने वालों की संख्या कम हुई है। परंतु, सक्रिय मामले तेजी से बढ़ रहे हैं और वर्तमान में इनका आंकड़ा सात लाख को पार कर गया है। बीते 24 घंटों में देश में कोरोना संक्रमण के 1,03,764 नए मामले सामने आए हैं, 477 लोगों की मौत हुई है और 52,825 लोग ठीक हुए हैं।

पीएम ने की हालात की समीक्षा 
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को उच्चाधिकारियों के साथ एक बैठक कर हालात की समीक्षा की। पीएम मोदी ने कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए पांच सूत्रीय रणनीति यानी टेस्टिंग, ट्रेसिंग, ट्रीटमेंट, उचित कोविड व्यवहार और टीकाकरण को जरूरी बताया। यही नहीं जिन राज्यों में ज्‍यादा केस सामने आ रहे हैं वहां तत्काल केंद्रीय टीमें रवाना करने के निर्देश दिए।

दिल्ली के सीएम केजरीवाल ने की आयु सीमा में छूट देने की मांग 

दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल  ने पीएम नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर नया टीकाकरण केंद्र खोलने के लिए शर्तों में ढील देने का अनुरोध किया है। इसके साथ ही टीकाकरण के लिए आयु सीमा में छूट देने की मांग भी की है। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने पत्र के माध्यम से पीएम मोदी से अपील की है कि कोरोना का टीका सभी लोगों के लिए उपलब्ध कराया जाए। अरविंद केजरीवाल ने पत्र में कहा कि देश भर में कोरोना के बढ़ते संक्रमण ने नई चिंता और चुनौती पेश कर दी है, हमें टीकाकरण अभियान को और तेजी से आगे बढ़ाना होगा। इसलिए टीकाकरण केंद्र खोलने की शर्तो में छूट और टीकाकरण की उम्र सीमा बाध्यता को हटाया जाना चाहिए ताकि संक्रमण पर लगाम लगाया जा सके। 81 फीसद के संक्रमित लोग सिर्फ आठ राज्यों में

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने जानकारी दी कि सोमवार को सामने आए एक लाख से अधिक मामलों में 81 फीसद के संक्रमित लोग तो केवल आठ राज्य से हैं। बताया गया कि सोमवार को देश में जितने केस आए हैं, उनमें महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़, कर्नाटक, उत्तर प्रदेश, दिल्ली, तमिलनाडु, मध्य प्रदेश और पंजाब से ही 81.90 फीसद हैं। यानी लगभग 18.10 फीसद ही मामले देश के इन आठ राज्यों के बाहर से हैं।

महाराष्ट्र में सबसे अधिक दैनिक नए मामले 57,074 (55.11 फीसद) दर्ज किए गए हैं। इसके बाद 5,250 नए मामलों के साथ छत्तीसगढ़ दूसरे नंबर रहा, जबकि कर्नाटक में 4,553 नए मामले सामने आए हैं। मंत्रालय के मुताबिक, देश के कुल सक्रिय मामलों में महाराष्ट्र, कर्नाटक, छत्तीसगढ़, केरल और पंजाब संचयी रूप से 75.88 फीसद हैं। बताया गया कि बारह राज्यों – महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़, पंजाब, कर्नाटक, दिल्ली, तमिलनाडु, मध्य प्रदेश, गुजरात, हरियाणा, राजस्थान, उत्तर प्रदेश और केरल में दैनिक नए मामलों में बढ़ोतरी को देखा जा रहा है। वहीं, पंद्रह राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों में 1,80,449 के राष्ट्रीय औसत की तुलना में प्रति मिलियन जनसंख्या कम टेस्ट किए जा रहे हैं।